1/27/2008

आप कभी अकेले नहीं होंगे

बहुत दिनों पहले रेड इंडियंस के बारे में बहुत कुछ पढ़ा था । कल नेट पर टहलते वो भाषण मिल गया जिसकी याद अटकी पड़ी थी । ऐसा आनंद आया जैसे भूला हुआ कोई खज़ाना हाथ आ गया हो । बीच में पिछले महीने ब्रूस चैटविन की सॉंगलाईंस पढ़ कर ऐसा ही कुछ आनंद आया था । औस्ट्रेलिया की स्पिरिचुअल हिस्टरी जिसमें वहाँ के आदिवासियों के अदृश्य रास्ते जहाँ से आदिम संगीत का सफर तय होता है जो पृथ्वी और जीव के उत्पत्ति की कहानी का रहस्य खोलते हैं , मनुष्य और प्रकृति के बीच का सीधा सरल तार । पढ़ कर ऐसा आनंद आया जैसे संगीत के सुर एक एक करके खुलते हों । और याद आई सियेटल चीफ की कहानी । और देखिये क्या गज़ब संयोग ।

तो इसकी बानगी पढ़िये ... अंगेज़ी में इसका अनुवाद किन्हीं डॉक्टर स्मिथ ने किया है जब चीफ सियेटल ये वक्तव्य सुक्वामिश भाषा में दे रहे थे और खुद स्मिथ महाशय के अनुसार अपने अनुवाद में मौलिक वक्तव्य की सुंदरता और सुघड़ता लेशमात्र नहीं ला पाये हैं । तो इस ऐडमिशन के बाद इसे हिन्दी में तर्जुमा करने की हिम्मत भी नहीं बनाई ।

सन 1851 में , सियेटल , सुक्वमिश कबीले के सरदार ने एक भाषण दिया था जो आज भी माना जाता है कि पर्यावरण पर यह सबसे प्रोफाउंड और सुंदर वक्तव्य है । सियेटल शहर का नाम इन्हीं के नाम पर है और यह भाषण उस ट्रीटी के अंतरगत दिया गया जिसके तहत रेड इंडियंस को दो मिलियन एकड़ ज़मीन मात्र एक लाख पचास हज़ार डॉलर्स में बेचने को मजबूर किया गया ।


“The Red Man could never comprehend or remember it. Our religion is the traditions of our ancestors -- the dreams of our old men, given them in solemn hours of the night by the Great Spirit; and the visions of our sachems, and is written in the hearts of our people.
Your dead cease to love you and the land of their nativity as soon as they pass the portals of the tomb and wander away beyond the stars. They are soon forgotten and never return.

Our dead never forget this beautiful world that gave them being. They still love its verdant valleys, its murmuring rivers, its magnificent mountains, sequestered vales and verdant lined lakes and bays, and ever yearn in tender fond affection over the lonely hearted living, and often return from the happy hunting ground to visit, guide, console, and comfort them.
It matters little where we pass the remnant of our days. They will not be many. The Indian's night promises to be dark. Not a single star of hope hovers above his horizon. Sad-voiced winds moan in the distance. Grim fate seems to be on the Red Man's trail, and wherever he will hear the approaching footsteps of his fell destroyer and prepare stolidly to meet his doom, as does the wounded doe that hears the approaching footsteps of the hunter.

A few more moons, a few more winters, and not one of the descendants of the mighty hosts that once moved over this broad land or lived in happy homes, protected by the Great Spirit, will remain to mourn over the graves of a people once more powerful and hopeful than yours.
But why should I mourn at the untimely fate of my people? Tribe follows tribe, and nation follows nation, like the waves of the sea. It is the order of nature, and regret is useless. Your time of decay may be distant, but it will surely come, for even the White Man whose God walked and talked with him as friend to friend, cannot be exempt from the common destiny. We may be brothers after all. We will see.

We will ponder your proposition and when we decide we will let you know. But should we accept it, I here and now make this condition that we will not be denied the privilege without molestation of visiting at any time the tombs of our ancestors, friends, and children. Every part of this soil is sacred in the estimation of my people. Every hillside, every valley, every plain and grove, has been hallowed by some sad or happy event in days long vanished.

Even the rocks, which seem to be dumb and dead as the swelter in the sun along the silent shore, thrill with memories of stirring events connected with the lives of my people, and the very dust upon which you now stand responds more lovingly to their footsteps than yours, because it is rich with the blood of our ancestors, and our bare feet are conscious of the sympathetic touch. Our departed braves, fond mothers, glad, happy hearted maidens, and even the little children who lived here and rejoiced here for a brief season, will love these somber solitudes and at eventide they greet shadowy returning spirits.

And when the last Red Man shall have perished, and the memory of my tribe shall have become a myth among the White Men, these shores will swarm with the invisible dead of my tribe, and when your children's children think themselves alone in the field, the store, the shop, upon the highway, or in the silence of the pathless woods, they will not be alone. In all the earth there is no place dedicated to solitude. At night when the streets of your cities and villages are silent and you think them deserted, they will throng with the returning hosts that once filled them and still love this beautiful land. The White Man will never be alone.”




....................................................................................................................................................................

एक फुटनोट लिखने की इच्छा हुई है आज । पिछले दो तीन दिनों के प्रकरण में कुछ चीज़ें साफ हुईं । पहला ये कि अभय वाकई ‘जेंटलमैन’ हैं । लेकिन कोई सार्वजनिक स्पष्टीकरण देने की ज़रूरत नहीं थी । ऐसा करके उन्होंने सिर्फ मित्रों के असंतुलित बेचैन उद्गारों की बेमतलबता को रेखांकित किया । ज्ञानजी की समझदारी पर उन्हें विश्वास तो था ही फिर उन्हें सफाई देने की कोई ज़रूरत तो नहीं ही थी । दूसरे ज्ञानजी में वाकई सेंस ऑफ ह्यूमर है , ये तो हमारी कमी है कि इसे देख नहीं पाये वरना रीताजी नेरुदा न पढकर चाय बनाना चाहें और ज्ञानजी सिर्फ और सिर्फ चाय पीनी चाहें उसमें हमें कैसा उज़्र :-)। मुझे पक्का और पूर्ण विश्वास है कि निजी जीवन में ज्ञानजी और रीताजी का भी उतना ही सौहाद्रपूर्ण और परिपक्व रिश्ता है जितना अभय और तनु का । रही बात शिव जी की तो वो शायद उतने ही हड़बड़ प्रतिक्रिया देने वाले हैं जितना कि हम । सो एक साम्य तो है । हाँ उनका लिखा ये पहला पोस्ट मैंने पढ़ा । इसके पहले उनका ब्लॉग मैंने नहीं देखा था । खैर उन्होंने हमारा देखा था पर सब टैंजेंट गया था तो यहाँ भी हम एक ही लेवेल पर हुये अंतत: ..एक दूसरे के लिखे से अपरिचित।

और शिव जी को बता दें कि ये ज़रूरी नहीं कि किसी एक मुद्दे पर सार्थक बात करने के अधिकारी हम तभी बनते हैं जब हमने सारे मुद्दों पर बहस और जंग छेड़ी हुई हो पहले से । दूसरी बात कि नौ से छे की नौकरी करने के बाद नेरूदा न सिर्फ पढ़ते हैं , समझते भी हैं । जितनी दखल वित्तीय मसलों पर है उतना ही साहित्य पर रखने का मुगालता भी । और जब पढ़ते हैं तो चर्चा भी करते हैं । आप इसमें अपने रिवर्स स्नॉबरी से हमें आतंकित तो न ही करें।

और चूँकि पढ़ते हैं ,लिखते हैं , नौकरी करते हैं , घर चलाते हैं , खाना पकाते हैं , सोचते हैं .... लगातार सोचते हैं तो कई बार फेंससिटर्स वाली समझदारी और अभय की उर्जा बेकार न करने वाली थ्योरी की सेंसीबिलिटी जानने के बावज़ूद ऐसी बेवकूफियाँ हो जाती हैं जहाँ समझदारी वाकई गड्ढे में गिर जाती है ।


जिन लोगों ने मुद्दे की गंभीरता को समझा ,उनका बहुत शुक्रिया ।

9 comments:

अनामदास said...

सिएटल स्पीच के लिए शुक्रिया. अदभुत है, अनुवाद में अगर इतना दम है तो सुक्वामिश में कैसा रहा होगा, उनके अपने लोगों ने क्या महसूस किया होगा.एक पूरी सभ्यता का विदा भाषण...वैसे यह भाषण माओरी से लेकर मुंडाओं तक के सारे सरदारों को याद कर लेना चाहिए, अक्षरश सही होगा.

अजित वडनेरकर said...

सब ठीक ही होना चाहिए। सब भले नज़र आएं ये भी ठीक, साबित हो जाएं ये भी ठीक।
खटराग, विवाद से बच सकें उतना बेहतर। गले पड़ जाएं तो बात अलग।
फिक्रे दुनिया मे सर खपाता हूं
मैं कहां और ये बवाल कहां...

अजित वडनेरकर said...

और हां, जल्दबाजी में असली पोस्ट पढ़ ही नहीं पाए। पढ़कर बताएंगे।

पर्यानाद said...

पिछली पोस्‍ट पढ़ने के बाद कुछ कहने की हिम्‍मत ही नहीं जुटा पाया था. पहले सोचा कि नैतिक समर्थन देने जैसा कुछ कहूं फिर लगा कि अकारण घूमते चक्र में हाथ नहीं डालना बेहतर है.
लेकिन इतना क्रोध ...
आज झंझावात के पश्‍चात यहां पसरी शांति का पुन: एहसास हुआ.
रेड इंडियन... पढ़ कर काफी सारे विचारों ने सिर उठाया है. क्‍या कहूं ... बस अच्‍छा लगा. हमेशा की तरह....या शायद बहुत अच्‍छा.

Shiv Kumar Mishra said...

कोई 'रिवर्स स्नाबरी' से आतंकित नहीं हो सकता. ठीक वैसे ही जैसे कोई स्नाबरी से नहीं हो सकता......:-)

मेरा कहना केवल यही है कि ज्ञान दत्त पाण्डेय अगर रीता पाण्डेय की बनी हुई चाय रोज पीते हैं तो उससे पूरी दुनियाँ की महिलाओं की न तो बेइज्जती होती है और न ही उन्हें असहाय महसूस करना चाहिए. आप अगर अकाऊंटिंग स्टैंडर्ड अपने हिसाब से इंटरप्रेट करती हैं तो उसमें कोई बदलाव तब तक नहीं आएगा जबतक उसे लिखने वालों से बदलाव करने को न कहा जाय.

और, शुक्रिया मेरे ब्लॉग पर पहली बार आने के लिए.

हर्षवर्धन said...

क्या बात है। ब्लॉग पर ये गरमागरम बहस। आपकी और अभयजी की अंतिम प्रतिक्रिया समुद्र मंथन जैसा अहसास दे रही है। भारतीय समाज कुछ इसी तरह से चलता है। सबसे अच्छी लाइन है, ---
मुझे पक्का और पूर्ण विश्वास है कि निजी जीवन में ज्ञानजी और रीताजी का भी उतना ही सौहाद्रपूर्ण और परिपक्व रिश्ता है जितना अभय और तनु का ।

चंद्रभूषण said...

रेड इंडियन कवियों की कविताओं की एक ऐंथोलॉजी हिंदी में वीरेंद्र कुमार अग्रवाल (अवकाशप्राप्त आयकर अधिकारी) ने दस-बारह साल पहले संकलित, अनूदित और प्रकाशित की थी- 'रक्त में यात्रा'। तमाम अन्य अवकाशप्राप्त हिंदीप्रेमी अफसरों की तरह श्री अग्रवाल की निकटता भी 'हंस' और उसके संपादक श्री राजेंद्र यादव के साथ है, लिहाजा गुमशुदगी जैसी कोई बात उनके साथ नहीं है। आप मित्रों में से किसी के पास यदि यह किताब हो तो उसमें से 'त्रुगान्निनी' (या अपनी रुचि के अनुसार कोई और) कविता उठाकर अपनी पोस्ट में छाप दें। और यदि किसी की नजर से यह किताब न गुजरी हो तो आदेश करें, कुछ दिन में मैं कहीं न कहीं से जुगाड़ करके 'हिंदी किताबों का कोना' में उसके बारे में जरूरी सूचनाएं डाल दूंगा।

Priyankar said...

सिएटल स्पीच एक अनिवार्य पाठ है . धन्यवाद!

"चूँकि पढ़ते हैं ,लिखते हैं , नौकरी करते हैं , घर चलाते हैं , खाना पकाते हैं , सोचते हैं ...."

इन सभी में 'नौकरी करते हैं'(यानी आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर हैं),यह तथ्य बहुत मार्के का है क्योंकि बाकी चीज़ें इससे जुड़ी हुई हैं और इससे बल-समर्थन पाती हैं. जो आपके केस में है और रीता जी के मामले में नहीं है . रीता जी ने अपने को उसी पारम्परिक रूप में ढाला है और ज्ञान जी ने उसे उसी संरचना में स्वीकार किया है .मैं इसमें हड़बड़ी में सिद्धांत ठेलने से बचना चाहूंगा . यह जानते हुए भी कि अगर रीता जी आपकी स्थिति में होतीं तो बहुत सम्भव है ज्ञान जी अपनी खिचड़ी के अलावा न केवल उनकी पसंद की कॉफ़ी बनाना जानते होते, वरन बना कर पिला भी रहे होते और तब कॉफ़ी के साथ नेरुदा-फेलूदा(सत्यजित रे वाले) पर बहस भी हो रही होती जो अगर करनी हो तो शायद खिचड़ी के साथ भी सम्भव है . और बकलम ज्ञान जी होती है .

फिलहाल जो है सामने हैं . और ज्ञान जी के बताने पर ही सामने है किसी तहलका का रहस्योद्घाटन नहीं है . पर छिटपुट उदाहरणों से सिद्धांत गढने,सोच बनाने और उतावले होकर सिद्धांतों की ठसक के चलते एकांगी उदाहरणों के आधार पर 'वैल्यू जजमेंट' देने के अपने खतरे हैं . एक अबाबील के आने से इतनी गर्मी नहीं पड़ने लगती कि सबको खस-खस की टट्टी लगाने का फरमान जारी कर दिया जाए,और न लगाने पर बिरादरीबाहर और द्रोही मान लिया जाए .

लगता है गुस्सा अच्छे लिक्खाड़ों की नाक पर धरा रहता है. उधर प्रमोद पंचलैट की माफ़िक सन्ना रहे हैं,इधर आप . और अभय हैं कि 'जेंटलमैनी' के सर्टीफ़िकेट की चौतरफा बौछार में भीगे-दबे जा रहे हैं .

आलोचना-समालोचना अच्छी चीज़ है पर अगर उससे ऐसा संदेश जाने लगे कि तेली का तेल जल रहा है और मशालची का दिल तो बहस व्यर्थता की कीच में फंस कर रह जाती है और ऐसे में इच्छित संदेश भोथरा हो जाता है .

क्या प्रमोद का,अभय का,ज्ञानजी का या आपका लिखा पढते समय और उस पर मुग्ध होते समय आपका ज़ेंडर मेरे माथे में होता है ?

चंद्रभूषण said...

एक भूल सुधार। 'रक्त में यात्रा' के संकलक-अनुवादक वीरेंद्र कुमार बरनवाल हैं, न कि अग्रवाल। गलती के लिए खेद है। इसके अलावा अपनी उपरोक्त टीप में की गई मेरी प्रार्थना अपनी जगह यथावत है।