4/12/2006

भाई

आज एक अरसे बाद
हम बैठे हैं
एक छत के नीचे
हम बातें करते हैं
हम हँसते हैं

मैं खोजती हूँ
तुम्हारे चेहरे में
एक पुराना चेहरा
एक बीता हुआ समय
जहाँ मुट्ठी भर कँचे थे
पतंग की लटाई थी
छिले हुये घुटने थे
फटी हुई कमीज़ थी
मुचडी हुई फ्रॉक थी
जेब में मुसा हुआ
टॉफी का सीला हुआ टुकडा था
जिसे इंच इंच बराबर
हर झगडे के बावजूद
बाँट कर खाया था

आज
इतना अरसा बीता
कितने पतझड बीते
कितने वसंत आये
हम फिर बैठे हैं
न कोई लडाई है
न पतंग की होड है
न कोई छिला हुआ घुटना है
न फटी हुई कमीज़ है
फिर भी
आज भी ताज़ा है
मुसा हुआ टॉफी का
सीला हुआ टुकडा

5 comments:

Jitendra Chaudhary said...

अब तो छत से उतर आओ।
हीही, अच्छी कविता लिखी है, लेकिन ये बताइये छत पर आप लोग काहे बैठे हुए हैं, बहुत धूप है उतर आइये। कुछ घर बार पर भी ध्यान दीजिए।

PS :छत पर बैठने का काम फ़ुरसतिया लोगो को दे दीजिए।

अनूप शुक्ला said...

बड़ी बढ़िया कविता लिखी। अच्छा लगा!

Kalicharan said...

chaat per hi kyon sari kavitayen bain hain ? Per bahut bhadiya bani hai. Gulzar ke gaano type :)

Udan Tashtari said...

प्रत्यक्षा जी
बहुत दूर तक यादों मे बहा दिया आपने।
बधाई।
समीर लाल

अनूप भार्गव said...

सुन्दर कविता है ।
कई बार लगता है कि हम बड़े हो कर छोटे हो गये हैं ।