4/24/2006

बात निकलेगी तो फिर दूर तलक जायेगी

कभी कभी कोई भूली बिसरी पुरानी धुन सुनते ही वक्त आपको पीछे ले जाता है, बहुत पीछे. ऐसा ही हुआ मेरे साथ. फिर एक एक करके याद आने लगे पुराने गाने , पुरानी धुन.
जब हमारे घर पहली बार टेप रिकार्डर आया तो पापा ने हमें खूब छकाया था. हमारी बातें रिकार्ड कर लीं और जैसे ही हम चुप हुये उन्होंने टेप चला दिया था. हम भौंचक्के, कहाँ से आई ये आवाज़.
उन दिनों टेप रिक़ार्डर आसानी से उपलब्ध चीज़ नहीं थी. हमें पता नहीं था कि ऐसी भी कोई मशीन होती होगी. तब बहुत छोटे भी थे. ज्यादा कुछ मालूम नहीं होता था. खैर, टेप आने के बाद कुछ दिन रिकार्डिंग का जोश रहा. ये जोश कुछ कुछ ऐसा ही था जो बाद में कोई 4-5 साल पहले विडियो कैमरा आने पर हुआ था. हम लोग कभी गाने गाते, कभी नाट्क पढा जाता. बहुत मज़ा आता रहा कई दिनों तक.
कुछ गाने के कैसेट्स जो याद रह गये वो थे , " दमादम मस्त कलंदर " शायद रूना लैला का गाया हुआ और उन्हीं का गाया हुआ "बोलो कान्हा , बोलो छलिया.....मन के वृन्दावन में किसने आज बजाई मधुर मुरलिया....."

एक वाकया जो याद आता है, एक बार बंजारों की टोली आई थी. घर घर पैसे माँग रहे थी गाना गाते हुये. उनमें से एक की अवाज़ खूब बुलन्द थी, करताल बजाते गा रही थी , " सिया जी से मिलने मन्दोदरी आई " आज तक वो आवाज़ और धुन याद हैं. हाँ जी वो गाना रिकार्ड किया था हमने. बडे दिनों तक सुनते रहे थे .
एक गाना और जो याद आता है अब भी, "भरत चले चित्रकूट हो रामा , राम को मनाने"

इन गानों के अलावा घर में थोडा बहुत शास्त्रीय संगीत और गज़लों का भी महौल था. तब पापा सासाराम में पोस्टेड थे. हमारे घर के गेट से सीधा शेरशाह का मकबरा दिखता. उन दिनों की याद आती है . सुबह सुबह कुहासे में डूबी पेडों से छन कर आती हल्की रौशनी और हमारे सोने के कमरे से हॉल का विस्तार दिखता. नींद खुलती थी और मेंहदी हसन की " पत्ता पत्ता बूटा बूटा " लगता किसी सपने की सुरीली दुनिया में सोये हैं . अब भी जब कभी मेंहदी हसन को सुनते हैं तो अधखुली आँखे , हॉल के दूर वाले कोने से आती सुरीली आवाज़ और सुबह की चाय का ट्रे टीकोज़ी सहित फर्श पर और कुहासे में लिपटा सुबह, बस यही याद आता है. गानों से जगहों की और माहौल का असोशियेशन कैसे हो जाता है, आश्चर्य होता है

उन्ही दिनों जगजीत सिंह की पहली रिकार्ड आई थी , : अनफॉरगेटेबल्स " ( शायद यही नाम था ) उनकी " बात निकलेगी तो दूर तलक जायेगी " बेहद पसंद थी. मेरे ख्याल से इससे बेहतर उन्होंने और नहीं गाया , मिर्ज़ा गालिब को छोड करके.
और गज़लों के साथ साथ जो एक और क्रेज़ था ,"कुंगफू फाईटिंग और डांस द कुंगफू" वाले गाने .तभी बीट्लस भी सुनना शुरु किया था और "आई वान्ना होल्ड योर हैंड" या फिर "ईमैजिन " या :” लूसी इन द स्काई विद डायमंड्स '

फिर कुछ दिनों बाद कुमार गंधर्व के निर्गुण भजन सुने , “ उड जायेगा हंस अकेला " " भोला मन जाने अमर मेरी काया " और "हिरणा समझ बूझ पग धरना , हिरणा " हर भजन अद्वितीय .पंडित सियाराम तिवारी को किसी ' लाईव कंसर्ट ' में रिकार्ड किया था . उनकी ठुमरी भी कई साल हम सुनते रहे.
इन सब का असर तो आज तक है
हर गाने के साथ कोई न कोई याद जुडी हुई है और अभी भी इनके बारे में लिखते लिखते चेहरे पर मुस्कान आ गई है

आजकल लेकिन पहले दिनों की तरह गाने सुनने का समय नहीं रहा . घर और ऑफिस पास होने से सबसे बडा जो नुकसान हुआ, कई कई फायदों के बावजूद, कि अब एक गाना खत्म होते न होते ऑफिस पहुँच जाते हैं वरना ड्राइव करने का सबसे बडा सुख था अपने पसंदीदा गानों को सुनते जाना.

5 comments:

Sunil Deepak said...

प्रत्यक्षा जी, लगता है कि हमारी संगीत की पसंद मिलती जुलती है. रुना लैला के गाने और गानों से भी ज्यादा उनका व्यक्तित्व, तब मुझे भी बहुत प्रिय थे और जगजीत सिंह का "बात निकली है तो दूर तलक जायेगी" मैं तब अपनी होने वाली पत्नी को सुनाता था, जिसे हिंदी नहीं आती थी पर उसे यह गीत बहुत भाता था. सच है कि गानों के साथ और बहुत सी यादें साथ छुपी रहती हैं और गाने की धुन के साथ, उभर आती हैं.
सुनील

ई-स्वामी said...

मेंहदी हसन की जो गज़ल पहले पहल मैंने सुनी थी, यही थी -"पत्ता पत्ता बूटा बूटा" - अपना फ़ंडा है की उनकी गज़लें सुनने के बाद जीवन ही बदल जाता है! Thank god for Mehadi Hassan.
जगजीत सिंह की सबसे पहली सुनी थी माईलस्टोन.

अनूप शुक्ला said...

अब इस पोस्ट में मौज लेने लायक कुछ नहीं है सिवाय यह लिखने के हमें भी ये गाना वो गाना
पसंद है। हां यह कहा जा सकता है कि कभी अपनी आवाज में कोई गाना पोस्ट करें तब पता चले कि कितना डूब के सुना जाता है संगीत!

Udan Tashtari said...

प्रत्यक्षा जी
जरा मेरी भी सुनें, साथ ही अनूप जी भी....

अनूप भाई कोशिश कर के भी,मौज नही ले पाये
पढी तुम्हारी पोस्ट मगर कुछ भी वो कह ना पाये
कुछ भी वो कह ना पाये कि अब तो यूँ हाथ उठाये
बीती बातों मे अब क्यूँ हम घुस के आग लगायें
कह समीर कविराय कि भुलो धरे हुये सबहिं तुरुप
बात सही दिल की कह रहे हमरे अपने भाई अनूप.

बधाई हो इस लिखाई पे...

समीर लाल

पंकज कुमार said...

मै इस Internet कि दुनिया का नया शिकार हुँ। अपनी भाषा की तलाश में आपके ब्लाग पर भी पहुँच गया। आपकी कवितायें बहुत अच्छी लगी। इसी से प्रेरित होकर मैने भी एक ब्लाग शुरु करने का निश्चय किया है ।
एक बार फिर से धन्यवाद।